with love to indore

Tuesday, November 10, 2009

Madhya Pradesh discriminated in JNUURM bus purchase

See this news item from Dainik jagarn. Number of buses in all other states is very high while MP is getting same number of buses as small states like uttarakahnad or chhattisgarh.

Despite the fact that we are a large state and our state roadways has been closed.

this can mean only two things:
1. incompetence of our bureaucrat and politicians to make proper plans and get funding
2. discrimination by central government


इंदौर। केंद्र सरकार की आर्थिक मदद से मध्यप्रदेश समेत देश के अलग-अलग सूबों ने अपनी शहरी लोक परिवहन व्यवस्था की बेहतरी के लिए 11185 बसें खरीदने के ऑर्डर दिए हैं।

सरकारी सूत्रों ने बताया कि ये ऑर्डर जवाहरलाल नेहरू राष्ट्रीय शहरी नवीकरण मिशन के तहत दिए गए हैं। इनके जरिए एसी (वातानुकूलित) लो-फ्लोर, नॉन एसी लो-फ्लोर, सेमी लो-फ्लोर और मिनी बसें खरीदी जाएंगी।

उन्होंने कहा कि जेएनएनयूआरएम के तहत महाराष्ट्र 2230 आंध्रप्रदेश 1540, उत्तरप्रदेश 1350, पश्चिम बंगाल 1300, राजस्थान 400, केरल 320, झारखंड 240, मध्यप्रदेश 175, उत्तराखंड 145, छत्तीसगढ़ 100 और मणिपुर 25 बसें खरीदेगा। तमिलनाडु और दिल्ली ने 1600-1600 बसें खरीदने के ऑर्डर दिए हैं।

सूत्रों के मुताबिक, बसें खरीदने की योजना शहरी विकास मंत्रालय की राज्यों को एकमुश्त आर्थिक सहायता के जरिए संचालित की जा रही है। इस योजना के तहत जेएनएनयूआरएम से जुड़े शहरों के लिए कुल 15260 बसों की खरीदी को मंजूरी दी गई है।

1 comment:

  1. Well Bro!!

    Where did existing quota of 600 city bus coming from ???

    MP was paid an Installment of 445 crore before draft of JNNURM.

    Rapid Bus Transit System is built on that cost.

    Excluding the above two 175 has come to Indore(M.P)

    Regards,
    Mayank

    ReplyDelete